Uncategorized

” सदियों तक महात्मा गांधी दुनियाँ को शांति का रास्ता दिखाते रहेंगे “
 

” सदियों तक महात्मा गांधी दुनियाँ को शांति का रास्ता दिखाते रहेंगे “
 
आज दुनिया जिस तरह-तरह के संकट के दौर से गुजर रही है, उसमें महात्मा गांधी के मूल संदेश को बार-बार याद करने की जरूरत बहुत ज्यादा महसूस हो रही है। यही वजह है कि  अहिंसा,सत्य,शांति,समानता,  पर्यावरण , प्रकृति महिलाओं के अधिकार या लोकतंत्र को मजबूत करने का आंदोलन, उनमें बार-बार हमें महात्मा गांधी के संदेश व उद्धरण सुनाई देते हैं।
विश्व स्तर पर गांधीजी के कुछ मूल संदेशों की इस बढ़ती मान्यता और प्रासंगिकता के बावजूद गांधीजी के अपने देश में इन्हें मूल आधार बनाकर वैकल्पिक समाज व अर्थव्यवस्था का कोई बड़ा व असरदार प्रयास आज भी नजर नहीं आता है।
गांधीजी भारत एवं भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के एक प्रमुख राजनीतिक एवं आध्यात्मिक नेता थे. राजनीतिक और सामाजिक प्रगति की प्राप्ति हेतु अपने अहिंसक विरोध के सिद्धांत के लिए उन्हें अंतर्राष्ट्रीय ख्याति भी प्राप्त हुई. विश्व स्थर पर महात्मा गांधी सिर्फ एक नाम ही नहीं अपितु शान्ति और अहिंसा के प्रतीक हैं ।
आइंस्टीन ने महात्मा गांधी के बारे में कहा था-‘आने वाली नस्लें शायद ही यकीन करे कि हाड़-मांस से बना हुआ कोई ऐसा व्यक्ति भी इस धरती पर चलता-फिरता था।’ एक साधारण से शरीर में विराट आत्मा के लिए ही तो दुनिया हमारे राष्ट्रपिता को ‘महात्मा’ कहती है। आज बापू का 74 वां शहादत दिवस है।

देश-दुनिया के साथ राजधानी में भी बापू को श्रद्धा सुमन अर्पित कर उन्हें नमन किया जाएगा। दुनिया जानती है 30 जनवरी 1948 को नाथूराम गोड्से ने बापू की हत्या कर दी थी। आज भी देश-दुनिया में वंचितों, शोषितों को जब अपने अधिकारों की जंग लड़नी होती है तो वे गांधी जी के बताये आंदोलन की राह पर चलकर अपना हक हासिल करते हैं।
आज हमारे ही देश में जिस प्रकार महात्मा गांधी को मूलभूत सिद्धान्तों को कमतर करने का प्रयास किया जा रहा है वह आगे आने वाली पीढ़ियों के बीच दरारें पैदा करने के कुत्सित प्रयासों से देश की सुदृणता और सार्वभौमिकता के लिए चुनौती है।
महात्मा गांधी ने अहिंसा, श्रम संस्कार, सादगी,प्रकृति सरंक्षण,सम्पूर्ण समाज के एकजुटता, सत्य ,स्थानीय उद्योगों को प्रोत्साहन, उत्पादन में मानव श्रम का महत्व के माध्यम से स्वस्थ समाज के निर्माण के प्रयोग किये आज उन प्रयोगों की दबाने के प्रयास तेजी से हो रहे हैं।
इसलिए देश भर के तमाम गांधी वादी संगठन महात्मा गांधी के सहादत दिवस 30 जनवरी 2022 को एक दिन का उपवास रख कर सबको को सम्मत दे भगवान की धारणा को मजबूत करें
आज सरदारपुर ब्लाक ल के ग्राम तिरला में सर्व सेवासंग एवं एकता परिषद् के तत्वधान में एक दिवसीय उपवास का आयोजन किया गया जिसमें संगठन परिनिध व् सामाजिक कार्यकर्त्ता सहभागी हुवे
कार्यक्रम की सुरुवात ग्राम के मुख्या देवचंद भाई
दिप प्रज्वलित कर गांघी जी की पोटो पर माला अर्पण कर श्रन्धांजलि दी गयी
इस अवसर पर सर्वधर्म प्राथना सभा व गांघी जी का प्रिय भजन रघुपति राघवराजाराम का गायन किया गया उसके बाद मुखियाओं ने अपनी अपनी बात रखी भीलू भाई ने सभा का समापन किया गया
निवेदक वशिम खान

नयन लववंशी

प्रधान संपादक | Nayanrathore844@gmail.com

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

Close
Back to top button

You cannot copy content of this page

Close